Tuesday, March 29, 2011

दोस्ती का क्रिकेट या क्रिकेट से दोस्ती

आज के युग में खेलों का महत्व लगातार बढ़ रहा हे.फिर वो चाहे दोस्त बनाने के लिए हो या रिश्तों की नई परिभाषा बनाने में,जैसा की वर्तमान में हो रहा है. आज हमारे समाज में खेलों को नया स्वरुप मिला है.पहले खेलों को योग्यता का माप नहीं माना जाता था.आज हम खेलों और खिलाडियों को भगवान का दर्ज़ा देते है.आज सभी खेलों को महत्व दिया जाता है. हमारे देश में तो अन्य खेलों की तुलना में क्रिकेट की तूती बोलती है.क्रिकेट को सभी धर्म,जाति,संप्रदाय से ऊपर सम्मान मिलता है.क्रिकेट खिलाडियों को भगवान जैसा दर्ज़ा प्राप्त है.उनकी एक झलक पाने को लोग उसी तरह उमडते है जैसे शिरडी या वैष्णों देवी के मंदिरों में भीड़ का जमावड़ा होता है.आज हम इन खेलों के माध्यम से सारे विश्व को एकजुट करने के प्रयास में लगे है. आज सभी देश आपसी संबंधों को प्रगाढ़ बनाने  में खेल प्रतियोगिताओं के आयोजन में खासी दिलचस्पी लेने लगे है. जिसका जीता जगता उदाहरण अंतर्राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं का मिलजुल कर आयोजन है.वैसे भी इस बार क्रिकेट महाकुम्भ का आयोजन भी तीन सार्क देश कर रहे है.जिनमे भारत श्रीलंका बांग्लादेश शामिल है.पहले इन देशों  की सूची में पाकिस्तान भी शुमार था.पर क्या आप जानते है कि पाकिस्तान की जगह बांग्लादेश क्यूँ शामिल हुआ.इस का कारण पाकिस्तान की आतंकवाद समर्थित गतिविधियां है जो पूर्ण रूप से  भारतविरोधी है. कुछ समय पहले हमारे देश में अचानक आतंकी हमलों का ऐसा सैलाब आया जिसने हमारे देश को झकझोर दिया. हम ये समझ ही नहीं पा रहे थे,कि कौन हमारे देश कि शांति और सौहार्द का दुश्मन बन गया है.फिर धीरे धीरे हमने अपने  पडोसी देशों को भी इससे अवगत कराया.पर तब हम इस सच्चाई से अनभिज्ञ थे कि हमारा ही एक पडोसी मित्र  देश इस साजिश का सर्वेसर्वा है इन आतंकी हमलों में हमारे लोकतन्त्र के मंदिर संसद भवन पर हुआ आत्मघाती हमला जिसमे अनेक जवानों ने अपने प्राणों की आहुति दे के अनेक राजनेताओं, केंद्रीय मंत्रियों के प्राणों की रक्षा की.इस घटना ने  पूरे देश की नीव हिला दी.केवल ये ही एक मात्र हमला नहीं हुआ बल्कि मुंबई में समुद्री रास्ते से हुआ हमला. जिसमे मुंबई की महत्वपूर्ण जगहों को निशाना बनाया.उनमे प्रमुख है ताज होटल, छत्रपति शिवाजी टर्मिनल,ट्राइडेंट होटल.जिसमे अनेक मुंबई पुलिस के जवान शहीद हो गए जिनमे हेमंत करकरे,विजय सालस्कर प्रमुख थे.इस तरह के हमलों ने देश की आर्थिक स्थिति को भी कमजोर कर दिया.मुंबई पुलिस ने अपने जवानों के प्राण खोकर एक मात्र ज़िंदा  आतंकी आमिर अजमल कसाब को गिरफ्तार किया.उस आतंकी ने अपने बयान में कबूला की उसे आतंकी हमले की सारी ट्रेनिंग पाकिस्तान में मिली ये जानकारी पते ही भारतीय सरकार ने पाकिस्तान की सरकार जो सारी जानकारी दे  के, इस हमले के मास्टर माइंड को भारत को सौपने की बात कही तब पाकिस्तान ने अजमल कसाब के पाकिस्तानी होने की बात को सिरे से नाकारा. और उस हमले के मास्टर माइंड के भी पाकिस्तान में होने से इनकार किया और आज तक इस मामले में कथनी और करनी में अंतर के आदर्श पर खरा उतर रहा है.जबकि आज अलकायदा जैसे संगठन का शिकार वो खुद भी है.पर जहाँ तक हमारे देश को इस बारे में मदद का प्रशन है आज भी वही पुराना दोस्ती का राग अलाप रहा है.आज पाकिस्तान में दुनिया भर के कोई भी देश किसी भी खेल प्रतियोगिताएं में शामिल होने से इंकार कर रहे है. इसका कारण वहां पर हुई एक क्रिकेट प्रतियोगिता श्रीलंका क्रिकेट टीम पर हुआ  आतंकी हमला हे,जिसमे इस टीम के कई खिलाडी घायल हुए थे.जो काफी समय बाद मैदान पर खेलने की तैयारी कर पाए है.आज अगर पाक में कोई भी देश जाना नहीं चाहता, तो उसके पीछे आतंकवाद को लेकर पाक का ढुलमुल रवैया जिम्मेदार है आज जब हम भारत में चल रहे क्रिकेट मह्कुम्भ में सेमीफ़ाइनल को दौर में है.तब जहाँ एक सेमीफाइनल श्रीलंका में होना है जिसे लेकर कोई खास उत्साह नज़र नहीं आता.वही दूसरी ओर भारत और पाकिस्तान के बीच मोहाली में होने वाली भिडंत पर सारी दुनिया की निगाह है.वही एक ओर सार्थक कोशिश के प्रयास भी शुरू हो गए है .इस दिशा में पहला कदम हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री मनमोहन सिंह जी ने उठाया है.उन्होंने पाकिस्तानी राष्ट्रपति ज़रदारी ,प्रधानमंत्री गिलानी को मैच देखने के लिए मोहाली आने का निमंत्रण भेजा है जिसे स्वीकार करते हुए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री गिलानी भारत आकार मैच देखेंगे और भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा दिए रात्रि भोज में भी शामिल होंगे.पर इस मित्रवत आमंत्रण और मुलाक़ात से क्या दोनों देशों के संबंधों में किसी नए अध्याय की शुरुआत के संकेत है.या यह मुलकात भी पिछली शीर्ष मुलाकातों की श्रंखला का एक हिस्सा बनकर रह जायेगी. क्या हम सभी भारतीय नागरिक पाकी प्रधानमंत्री से नए आयाम की उम्मीद कर सकते है.या उस हिंदी  फ़िल्मी गाने की तरह होगा जिसकी पंक्तियाँ है
 कसमे वादे प्यार वफ़ा सब
बाते है बातों का क्या,
कोई किसका नहीं यह
 झूटे नाते है नातों का क्या......  
पर आज हम दोनों देशों के नागरिक इश्वर से यह दुआ मांगते है.की यह मित्रवत मुलाक़ात अब तक के सारे गिले शिक्वे दूर कर देगी और एक बार फिर खेल के माध्यम से दोस्ती के रिश्ते और प्रगाढ़ होंगे और क्रिकेट दोस्ती के खेल के रूप में फलेग फूलेगा और नए आयामों की ऐसी श्रंखला बनाएगा जी सदियों तक सभी को प्रेरित करती रहेगी................

5 comments:

  1. aapki rai se koi bhi asahmat nahi ho sakta.vastav me khelon ko dosti ka zariya banana inkii sarthakta sabit karna hae...

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. जब तक पाकिस्तान अपना रवैया नहीं सुधारता, गिले शिकवे दूर होते और मित्रवत माहौल बनते तो दीखता नहीं...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही समायोजित लेख ....सुन्दर लिखा है आप ने !

    ReplyDelete

सुरंजनी पर आपकी राय